देश

शेयर बाजार में अब तक का सबसे बड़ा ‘घोटाला’, 30 लाख करोड़ रुपए का है मामला, राहुल गांधी ने किया खुलासा, पढ़ें घोटाले की पूरी कहानी

Share now

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह द्वारा दी गई शेयर खरीदने की सलाह और फिर चुनाव के बाद आए ‘झूठे एग्जिट पोल’ के कारण शेयर बाजार में सबसे बड़ा घोटाला हुआ है, जिसमें निवेशकों के 30 लाख करोड़ रुपये डूब गए। उन्होंने कहा कि इस ‘आपराधिक कृत्य’ में प्रधानमंत्री और गृह मंत्री और ‘एग्जिट पोल’ करने वालों की भूमिका की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) का गठन किया जाए। राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘चुनाव के समय प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ‘स्टॉक मार्केट’ (शेयर बाजार) पर टिप्पणी की। जहां प्रधानमंत्री ने शेयर बाजार बढ़ने की बात कही, वहीं गृह मंत्री ने कहा कि चार जून से पहले लोगों को शेयर खरीदने चाहिए..फिर एक जून को झूठे ‘एग्जिट पोल’ आए।” उन्होंने दावा किया कि भाजपा के आंतरिक सर्वे में 220 सीट मिल रही थी, लेकिन ‘एग्जिट पोल’ में ज्यादा सीटें दिखाई गईं। राहुल गांधी ने कहा, ‘‘तीन जून को शेयर बाजार सारे रिकॉर्ड तोड़ देता है, चार जून को खटाक से नीचे चला जाता है। हजारों करोड़ रुपये का निवेश किया गया था। खुदरा निवेशकों के 30 लाख करोड़ रुपये डूब गए।” कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के अनुसार, इस ‘घोटाले’ से पांच करोड़ खुदरा निवेशकों को नुकसान हुआ है। उन्होंने सवाल किया, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देश की जनता को बाजार में निवेश करने की सलाह क्यों दी? प्रधानमंत्री, गृह मंत्री दोनों ने उस अडाणी समूह के स्वामित्व वाले चैनल को साक्षात्कार दिए, जिसके ऊपर सेबी की जांच जारी है। ऐसे में उन चैनल की भूमिका है? ” राहुल गांधी ने यह सवाल भी किया कि भाजपा, ‘फर्जी एग्जिट पोल’ वालों और विदेशी निवेशकों के बीच क्या रिश्ता है? कांग्रेस नेता ने कहा कि यह शेयर बाजार का सबसे बड़ा घोटाला है तथा ‘आपराधिक कृत्य’ है और इस मामले की जांच के लिए जेपीसी का गठन होना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि इस ‘घोटाले’ में प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री शाह सीधे तौर पर शामिल हैं। राहुल गांधी ने कहा कि इसमें प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और ‘एग्जिट पोल’ करने वालों की भूमिका की जांच होनी चाहिए।
वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राहुल गांधी के उन आरोपों को निराधार करार दिया जिसमें उन्होंने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ‘सबसे बड़े शेयर बाजार घोटाले में सीधे तौर पर’ शामिल हैं। भाजपा ने पलटवार करते हुए गांधी पर निवेशकों को गुमराह करने की साज़िश रचने का आरोप लगाया। भाजपा के वरिष्ठ नेता पीयूष गोयल ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राहुल लोकसभा चुनाव में विपक्ष की हार के बाद हताशा में ऐसे आरोप लगा रहे हैं जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत को तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने के लिए काम कर रहे हैं। गांधी ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी और शाह ‘सबसे बड़े शेयर बाजार घोटाले’ में ‘सीधे तौर पर शामिल’ हैं। उनके मुताबिक इसमें खुदरा निवेशकों को 30 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। गोयल ने कहा, ”यह निराधार है।” उन्होंने कहा, ”राहुल गांधी विपक्ष की हार के बाद हताशा में निवेशकों को गुमराह करने की साजिश रच रहे हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *