विचार

30 मई हिन्दी पत्रकारिता दिवस : सत्य को प्रकाशित करने के लिए मोमबत्ती की तरह जलता है पत्रकार

हिन्दी पत्रकारिता की कहानी, भारतीय राष्ट्रीयता की कहानी है। हिन्दी पत्रकारिता के उन्नायक अपने राष्ट्रीय दायित्वों के प्रति पूरी तरह से सजग और सचेत थे। पत्रकारिता उनके लिए एक मिशन थी, महज प्रोफेशन नहीं। उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में उच्च मानदण्डों को स्थापित किया। परिस्थितियाँ कितनी भी विषम और जटिल क्यों न रही हों उन्होंने कभी अपने सिद्धान्तों एवं आत्म सम्मान से समझौता नहीं किया। देश की स्वतन्त्रता में हिन्दी पत्रकारिता में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
प्रखर पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी का यह कथन पत्रकारों की महत्ता को प्रतिपादित करता है। उन्होंने कहा-“मैं पत्रकार को सत्य का प्रहरी मानता हूँ। सत्य को प्रकाशित करने के लिए वह मोमबत्ती की तरह जलता है। सत्य के साथ उसका वही नाता है जो एक पतिव्रता नारी का अपने पति के साथ। पतिव्रता नारी पति के साथ चिता पर सती हो जाती है और पत्रकार सत्य के साथ।
हिन्दी भाषा में उदन्त मार्तण्ड के नाम से पहला समाचार पत्र 30 मई सन् 1826 में निकला था, इसलिए 30 मई का दिन प्रतिवर्ष हिन्दी पत्रकारिता दिवस के रूप मंे मनाया जाता है। पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने इस समाचार पत्र को कलकत्ता से निकालना प्रारम्भ किया। वे इस समाचार पत्र के सम्पादक और प्रकाशक दोनों थे।
पंडित जुगल किशोर शुक्ल कानपुर के रहने वाले थे। वे वकील थे, लेकिन पराधीनता के उस काल में उन्होंने समाचार पत्र निकालने के लिए कलकत्ता को अपनी कर्मस्थली बनाया। उस समय कलकत्ता भारत में ब्रिटिश सरकार की राजधानी थी। अंग्रेज शासकों के कारण, वहां अंग्रेजी, उर्दू और बांग्ला भाषा का बोलवाला था। वहां से अंग्रेजी, बांग्ला और फारसी के कई अखबार निकलते थे, परन्तु हिन्दी का कोई समाचार पत्र उन दिनों वहां से नहीं निकलता था।
परतन्त्र भारत में हिन्दी का अखबार निकालना और हिन्दुस्तानियों के हितों की बात करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने इस चुनौती को स्वीकार किया और कलकत्ता के बड़ा बाजार इलाके में अगरतल्ला लेन कोलूटोला से उदन्त मार्तण्ड के नाम से साप्ताहिक पत्र निकालना प्रारम्भ किया। उदन्त मार्तण्ड का अर्थ है-‘समाचार सूर्य’। पहले पत्र की 500 प्रतियां छपीं। यह समाचार हर हफ्ते मंगलवार को पाठकों तक पहुंचता था।
पराधीनता के काल की उन विपरीत परिस्थितियों में उदन्त मार्तण्ड का प्रकाशन एक साहसिक प्रयोग था लेकिन धन के अभाव में इसका प्रकाशन वमुश्किल एक वर्ष तक ही सम्भव हो पाया। हिन्दी भाषी लोगों की कमी से इसे वहां अधिक संख्या में पाठक नहीं मिल सके। हिन्दी भाषी राज्यों में पाठकों तक समाचार पत्र पहुंचाने में डाकखर्च बहुत अधिक आता था। पंडित जुगल किशोर ने अंग्रेज सरकार से कई बार अनुरोध किया कि वे डाक व्यय में कुछ रियायत दे दें, मगर ब्रिटिश सरकार इसके लिए राजी नहीं हुई। अंग्रेजी मानसिकता के कारण कोई सरकारी विभाग इस समाचार पत्र की एक भी प्रति खरीदने के लिए तैयार नहीं हुआ। मजबूरन जुगल किशोर शुक्ल को इसका प्रकाशन बन्द करना पड़ा।
यद्यपि आर्थिक अभाव में उदन्त मार्तण्ड का प्रकाशन अधिक समय तक जारी नहीं रह सका तथापि इस समाचार पत्र ने देश में हिन्दी पत्रिकारिता की आधारशिला रखने का कार्य किया। बाद में इससे प्रेरित होकर देश में हिन्दी भाषा के कई समाचार पत्र निकलना प्रारम्भ हुए जिन्होंने आजादी की जंग में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसलिए हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में पंडित जुगल किशोर शुक्ल का नाम बड़े आदर के साथ लिया जाता है।
पंडित मदन मोहन मालवीय ने पत्रकारिता में उच्च मानदंडों को स्थापित किया। मालवीय जी के हृदय में आरम्भ से ही देश सेवा और समाजोत्थान की भावना कूट-कूट कर भरी हुई थी। उस समय रामपाल सिंह कालाकांकर के राजा थे। वे मालवीय जी की विद्वता एवं भाषण शैली से बहुत प्रभावित थे। वे ‘हिन्दुस्तान’ नाम से एक समाचार पत्र निकालना चाहते थे। उन्होंने मालवीय जी से मिलकर इस समाचार पत्र का सम्पादक बनने का प्रस्ताव रखा।
जब राजा रामपाल सिंह ने मालवीय जी से ‘हिन्दुस्तान’ का सम्पादक बनने को कहा तो मालवीय जी को उनके प्रस्ताव को स्वीकार करने में बड़ा संकोच हुआ। मालवीय जी कट्टर सनातनधर्मी ब्राह्मण थे, जबकि राजा साहब विलायत से वे एक यूरोपियन महिला को भी विवाह करके ले आए थे और मदिरा के शौकीन थे। मालवीय जी को किसी मदिरा पिए हुए व्यक्ति के पास बैठना बहुत कठिन लगता था। इसलिए उन्होंने राजा साहब से यह शर्त तय कर ली कि जब वे मदिरा पिये हों तो उन्हें बातचीत के लिए नहीं बुलाएं अन्यथा वे वहां कार्य नहीं कर पायेंगे। राजा साहब इसके लिए सहर्ष तैयार हो गए।
इस प्रकार ‘हिन्दुस्तान’ अखबार का प्रकाशन प्रारम्भ हुआ और मालवीय जी इसके प्रथम सम्पादक बने। उन्हें प्रतिमाह दो सौ रुपये वेतन मिलता था। उस समय दो सौ रुपये की धनराशि बहुत बड़ी थी। मालवीय जी उस समय छब्बीस वर्ष के युवा थे। मालवीय जी ने ढाई वर्ष तक हिन्दुस्तान का सम्पादन बड़ी लगन और कुशलता के साथ किया। हिन्दुस्तान में छपे मालवीय जी के लेख बड़े तथ्यपूर्ण और प्रभावी होते थे। यह हिन्दी का पहला दैनिक था जिसकी लोकप्रियता और नाम देश-विदेश तक फैल गया। इस समाचार पत्र ने हिन्दी पत्रकारिता को एक नई दिशा दी और देश में नवजागरण का कार्य किया।
‘हिन्दुस्तान’ की बढ़ती लोकप्रियता और पाठकों की संख्या में निरन्तर वृद्धि से राजा साहब बड़े खुश थे। मगर एक दिन राजा साहब मालवीय जी की शर्त भूल गए। उन्होंने नशें की अवस्था में ही मालवीय जी को बातचीत के लिए बुला लिया। ज्यों ही मालवीय जी को यह मालूम पड़ा कि राजा साहब नशे में हैं त्यों ही वे बातचीत समाप्त कर बाहर निकल आए।
उन्होंने तत्काल सम्पादक के पद से त्यागपत्र दे दिया और वापस प्रयाग लौट आये। बाद में राजा साहब ने अपनी भूल स्वीकार कर मालवीय जी से पुनः सम्पादन भार संभालने का अनुरोध किया। वे 250 रुपया महीना देने को तैयार थे। मगर मालवीय जी इसके लिए किसी तरह तैयार नहीं हुए। उन्होंने कुछ समय बड़ी मुफलिसी में बिताया, मगर अपने सिद्धान्तों और पत्रकारिता के उच्च मानदण्डों से कोई समझौता नहीं किया।
गणेश शंकर विद्यार्थी हिन्दी पत्रकारिता के आधार स्तम्भ माने जाते हैं। वे एक प्रखर पत्रकार और महान देशभक्त थे। उन्होंने पत्रकारिता में क्रान्ति की भावना का समावेश करने का कार्य किया। 09 नवम्बर सन् 1913 को उन्होंने कानपुर से ‘प्रताप’ नामक समाचार का प्रकाशन प्रारम्भ किया। यह काम शिवनारायण मिश्र, गणेश शंकर विद्यार्थी, नारायण प्रसाद अरोरा और कोरोनेशन प्रेस के मालिक यशोनन्दन ने मिलकर शुरु किया था। चारों ने यह समाचार पत्र निकालने के लिए सौ-सौ रुपए की धनराशि इकट्ठा की और इस चार सौ रुपए की कुल जमा पूंजी से ‘प्रताप’ का प्रकाशन शुरू हुआ।
पहले ‘प्रताप’ में 16 पृष्ठ होते थे, मगर धीरे-धीरे पृष्ठों की संख्या निरन्तर बढ़ती गई। बाद में यशोदा नन्दन और नारायण प्रसाद अरोरा इस समाचार पत्र से अलग हो गए मगर शिव नारायण मिश्र और गणेश शंकर विद्यार्थी ने ‘प्रताप’ को अपनी कर्मभूमि बना लिया। प्रताप के लेख नौजवानों में क्रान्ति की ज्वाला भरने का कार्य करते थे। गणेश शंकर विद्यार्थी के क्रान्तिकारियों से नजदीकी सम्बन्ध थे। शहीदे आजम भगत सिंह तो विद्यार्थी जी को अपना राजनैतिक गुरु मानते थे।
गणेश शंकर विद्यार्थी, श्याम लाल गुप्त, बालकृष्ण शर्मा नवीन, महावीर प्रसाद द्विवेदी, रामाशंकर अवस्थी और हरसत मोहानी ऐसे पत्रकार थे जिनकी कलम का लोहा अंग्रेज सरकार भी मानती थी।
स्वतंत्रता के बाद हिन्दी पत्रकारिता का परिदृश्य बहुत तेजी से बदला है। आज हिन्दी पत्रकारिता का स्वरुप बहुत व्यापक हो गया है। हिन्दी भाषा में प्रकाशित होने वाले पत्र-पत्रिकाओं की संख्या देश की किसी अन्य भाषा में प्रकाशित होने वाले पत्र-पत्रिकाओं की तुलना में सबसे अधिक है। यह हिन्दी के लिए और हिन्दी पत्रकारिता के लिए एक शुभ संकेत है।
वर्तमान समय में पूरा देश कोरोना की आपदा से जूझ रहा है। संकट की इस घड़ी में हमारे पत्रकार और छायाकार अपनी भूमिका बड़ी लगन और निष्ठा से कर रहे हैं। अपने प्राणों की चिन्ता किए बिना वे कोरोना आपदा से जुड़ी पल-पल की अपडेट और सटीक विश्लेषण हम तक पहुंचा रहे हैं। उनके सकारात्मक समाचारों तथा कोरोना से ठीक हुए मरीजों के साक्षात्कारों ने हम सबके मनोबल और आत्म विश्वास को बनाए रखने में संजीवनी का कार्य किया है। कोरोना के खिलाफ इस जंग में उनका योगदान किन्हीं अन्य कोरोना योद्धाओं से कम नहीं है।
हिन्दी पत्रकार दिवस के इस अवसर पर मैं सभी पत्रकारों एवं छायाकारों का वन्दन और अभिनन्दन करता हूँ और कोरोना आपदा के दौरान उनकी रचनात्मक भूमिका की सराहना करता हूँ। हिन्दी पत्रकारिता इसी प्रकार प्रगति के नए-नए सोपान बनाती रहे और पत्रकारिता के उच्च मानदंड अक्षुण्य रहें, मैं ऐसी कामना करता हूँ।

सुरेश बाबू मिश्रा, सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य
E-mail : sureshbabubareilly@gmail.com

Facebook Comments

प्रिय पाठकों,
इंडिया टाइम 24 डॉट कॉम www.indiatime24.com निष्पक्ष एवं निर्भीक पत्रकारिता की दिशा में एक प्रयास है. इस प्रयास में हमें आपके सहयोग की जरूरत है ताकि आर्थिक कारणों की वजह से हमारी टीम के कदम न डगमगाएं. आपके द्वारा की गई एक रुपए की मदद भी हमारे लिए महत्वपूर्ण है. अत: आपसे निवेदन है कि अपनी सामर्थ्य के अनुसार नीचे दिए गए बैंक एकाउंट नंबर पर सहायता राशि जमा कराएं और बाजार वादी युग में पत्रकारिता को जिंदा रखने में हमारी मदद करें. आपके द्वारा की गई मदद हमारी टीम का हौसला बढ़ाएगी.

Name - neearj Kumar Sisaudiya
Sbi a/c number (एसबीआई एकाउंट नंबर) : 30735286162
Branch - Tanakpur Uttarakhand
Ifsc code (आईएफएससी कोड) -SBIN0001872

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *