यूपी

सीएमओ तक लगाई गुहार, नहीं सुनी गई पुकार, नौ माह से नहीं मिला मानदेय

अमित पाठक, बहराइच

अवनी परिधि एनर्जी एजेंसी के माध्यम से जिला बहराइच के विभिन्न सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सीएमओ बहराइच के अधीनस्थ नियुक्ति में लगभग 40 नवयुवकों को उनका वेतन नौ माह से नहीं मिला, या ऐसा भी कहा जाए तो गलत नहीं कि रोजगार होते हुए भी ये लोग बेरोजगार हैं, अपना और अपने परिवार का पालन पोषण करना इन युवकों के लिये मरुस्थल से जलधारा निकालने के बराबर है. इन्हीं 40 नवयुवकों में से एक हैं गुरुनारायण उर्फअरुण कुमार श्रीवास्तव, जो सीएचसी कैसरगंज में वार्ड ब्वाय के पद पर नियुक्त हैं.  इनकी उपस्थिति नियमित रूप से लगती है. अपना कार्यभार पूरी सत्यनिष्ठा से करते हैं. ऐसा यहाँ के प्रभारी चिकित्सक डॉ एन के सिंह से बातचीत के दौरान पता चला. उन्होंने ये भी कहा कि हम काम लेते हैं और समय पर उपस्थिति सीएमओ ऑफिस भेज देते हैं. मानदेय इन लोगों का क्यों रोक रखा है ये मैं नहीं जानता.
संवाददाता ने वार्ड ब्वाय अरुण कुमार श्रीवास्तव से उक्त विषय पर बातचीत की तो उन्होंने कहा कि मेरी नियुक्ति 2 जुलाई 18 को हुई है. तब से आज तक मैं सिर्फ अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए प्रभारी कैसरगंज के नेतृत्व में कार्य कर रहा हूं और यहाँ आवास की कोई व्यवस्था मुझे न मिल पाने से प्रतिदिन 75 km आता जाता हूँ. परिवार भुखमरी की समस्या झेल रहा है और बिखरने के कगार पर है. उन्होंने यही हाल अपने साथ नियुक्त हुए कर्मचारियों का भी बताया. संवाददाता द्वारा नाम पूछने पर अरुण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि रिसिया सीएचसी सूर्य कुमार मिश्रा, पयागपुर सीएचसी रमेश चन्द्र मिश्रा, कैसरगंज सीएचसी सुनील कुमार, महसी सीएचसी अंकुर सिंह, हुजूरपुर सीएचसी जितेंद्र जायसवाल, चित्तौरा सीएचसी उमेश चन्द्र आदि लगभग 40 भुक्तभोगी हैं.
संवाददाता द्वारा सीएमओ बहराइच से इस प्रकरण पर बात करने की कोशिश की गई परंतु सी एम ओ बहराइच का रजिस्टर्ड मोबाइल किसी अन्य के पास है जिन्होंने अपना नाम डॉ. डीके सिंह बताया |
सीएमओ ने इनका मानदेय क्यों रोका है यह तो वही बताएंगे परंतु इन कर्मचारियों को तो काम करने के बाद भी घर का खर्चा चला पाना मुश्किल हो रहा है।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *