दिल्ली

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के मुलाज़िमों ने हरजीत सिंह जी.के व चमन सिंह को भेजा लीगल नोटिस

नीरज सिसौदिया, नई दिल्ली

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के मुलाज़िमों ने जागो पार्टी, इसके नेता हरजीत सिंह जी.के व चमन सिंह को लीगल नोटिस भेज कर कहा है कि वह मुलाज़िमों के खिलाफ लगाये गये झूठे व निराधार दोष वापिस लें और माफी मांगें नहीं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।
यहां एक प्रैस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए नरेन्द्र सिंह पी.ए, जी.एम धर्मिंदर सिंह, डी.जी.एम बलबीर सिंह व अन्य मुलाज़िमों ने कहा कि उन्होंने अपने वकील लक्ष्मी चंद एंड एसोसियट के माध्यम से यह लीगल नोटिस भेजा है। उन्होंने कहा कि सियासी नेताओं में आपस में दुष्प्रचार से उनका कोई लेना देना नहीं है, मुलाज़िमों के पास कोई ताकत नहीं होती व इन नेताओं द्वारा मुलाज़िमों के खिलाफ लगाये गये दोष बिल्कुल निराधार, झूठे व गुमराह करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें कभी भी उनके निजी खाते में एक रुपया भी डोनेशन के रूप में नहीं मिला, अगर इन नेताओं के पास पैसे भेजने का कोई सबूत है तो वह सार्वजनिक करें या फिर मुलाज़िमों की भावनाओं को चोट पहुँचाने व उनका अक्स खराब करने के लिए माफी मांगें। उन्होने कहा कि मीडिया में यह दोष लगने के बाद बहुत सारे मुलाज़िम निराश हो गये हैं व उनका मनोबल गिर गया है क्योंकि वह तो गुरुद्वारा साहिबान में सेवा करते हैं और कभी भी किसी गलत कार्य में शामिल नहीं हुए। उन्होंने कहा कि बहुत सारे मुलाज़िम गरीब परिवारों से हैं व जनरल मैनेजर ने तो यह भी कहा कि वह कमेटी में कई वर्षों से काम कर रहे हैं पर उनके पास केवल स्कूटी ही है व घर उनके पिता ने बनाया था।
उन्होंने यह भी कहा कि शायद इतिहास में यह पहली बार है कि दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के मुलाज़िमों को उनके खिलाफ लगे झूठे व शरारती दोषों के खिलाफ अपनी वकालत में स्वंय सामने आना पड़ा है। उन्होंने कहा कि इससे ना सिर्फ वह बल्कि उनके नज़दीकी सहयोगी व पारिवारिक सदस्य भी यह दोष लगने के बाद परेशानी के आलम में हैं।
उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी यह कल्पना भी नहीं की थी कि सिखों के चुने हुए प्रतिनिधि गुरुधामों को बदनाम करने के लिए मुलाज़िमों के खिलाफ ही ऐसे घटिया दोष लगा देंगे। उन्होंने आगे कहा कि गुरुद्वारा साहिब में पैसे देने वाले हर व्यक्ति को रसीद दी जाती है और यह हो नहीं सकता कि कोई कहे कि उसे रसीद नहीं मिली। अगर कोई ऐसा व्यक्ति है जो दावा करता हे कि रसीद नहीं मिली तो वह बतायें कि कब पैसे दिये थे व रसीद देने से किसने व क्यों इनकार किया।
उन्होंने कहा कि मनजीत सिंह जी.के के खिलाफ तो पहले ही दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के फंडों में हेर-फेर करने व भ्रष्टाचार करने के गंभीर दोष लगे हैं जिनका अदालत में मुकद्दमा चल रहा है। उन्होंने कहा कि अब मुलाज़िमों का अक्स खराब करने के लिए उनके खिलाफ ऐसे घटिया दोष लगाये गये हैं।
इन मुलाज़िम आगुओं ने कहा कि हरजीत सिंह जी.के और चमन सिंह तुरंत अपने लगाये गये दोष वापिस लें और सार्वजनिक तौर पर माफी मांगें नहीं तो इनके खिलाफ अदालत में व पुलिस में कानूनी कार्रवाई की जायेगी।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *